vrsamachar
HEALTH

गर्मी में ले रहे हैं AC का मज़ा तो हो जाएं सावधान, हो सकती है ये समस्याएं

गर्मी के मौसम में बिना एयर कंडीशनर के रहना बहुत ही मुश्किल हो जाता है। यह गर्म तापमान से राहत देकर आपको ठंडक और सुकून का भी एहसास कराता है। वह भी बगैर शोर शराबे के। घर हो या फिर दफ्तर पूरे आठ घंटे आप एसी में बैठते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि …

गर्मी में ले रहे हैं AC का मज़ा तो हो जाएं सावधान, हो सकती है ये समस्याएं
X

गर्मी के मौसम में बिना एयर कंडीशनर के रहना बहुत ही मुश्किल हो जाता है। यह गर्म तापमान से राहत देकर आपको ठंडक और सुकून का भी एहसास कराता है। वह भी बगैर शोर शराबे के। घर हो या फिर दफ्तर पूरे आठ घंटे आप एसी में बैठते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि लंबे समय तक एसी में बैठना आपके लिए बेह हानिकारक हो सकता है? अगर नहीं जानते, तो अब जरूर जान लीजिए।

1. बुखार या थकान – लंबे समय तक एसी में रहने से आपको लगातार हल्का बुखार और थकान बने रहने की समस्या हो सकती है। इतना ही नहीं इसका तापमान ज्यादा कम करने पर आपको सिरदर्द और चिड़चिड़ाहट महसूस हो सकती है। अगर आप एसी से निकलकर सामान्य तापमान या गर्म स्थान पर जाते हैं तो आप लंबेसमय तक बुखार से पीड़ित हो सकते हैं।
2. जोड़ों में दर्द – लगातार एसी के कम तापमान में बैठना सिर्फ घुटनों की समस्या ही नहीं देता बल्कि आपके शरीर के सभी जोड़ों में दर्द के साथ-साथ अकड़न पैदा करता है और उनकी कार्यक्षमता धीरे-धीरे कम होने लगती है। आगे चलकर यह हड्ड‍ियों से जुड़ी बीमारियों को जन्म भी दे सकता है।
3. ब्लडप्रेशर व अस्थमा – अगर आपके ब्लडप्रेशर संबंधित समस्याएं हैं तो आपको एसी से परहेज करना चाहिए। यह लो ब्लडप्रेशर के लिए जिम्मेदार हो सकता है और सांस संबंधी समस्याएं भी पैदा कर सकता है। अस्थमा के मरीजों को भी एसी के संपर्क में आने से बचना चाहिए।
4. मोटापा – आपको जानकर हैरानी होगी, लेकिन यह पूरी तरह सच है कि एसी के इस्तेमाल से आपके शरीर में मोटापा बढ़ सकता है। तापमान कम होने के कारण हमारा शरीर अधिक सक्रिय नहीं हो पाता और शरीर की ऊर्जा का सही मात्रा में उपयोग नहीं हो पाता, जिससे मोटापा बढ़ता है।
5. त्वचा की समस्याएं – एसी के दुष्प्रभाव आपकी त्वचा पर भी दिखाई देते हैं। यह आपकी त्वचा की प्राकृतिक नमी समाप्त कर सकता है जिससे आपकी त्वचा में रूखापन महसूस होता है।
6. रक्तसंचार – एसी में बैठने से शारीरिक तापमान कृत्रिम तरीके से ज्यादा कम हो जाता है जिससे कोशिकाओं में संकुचन होता है और सभी अंगों में रक्त का संचार बेहतर तरीके से नहीं हो पाता, जिससे शरीर के अंगों की क्षमता प्रभावित होती है।
7. मस्तिष्क पर असर – एसी का तापमान बहुत कम होने पर मस्तिष्क की कोशिकाएं भी संकूचित होती है जिससे मस्तिष्क की क्षमता और क्रियाशीलता प्रभावित होती है। इतना ही नहीं आपको लगातार चक्कर आने की समस्या भी हो सकती है।
Next Story
Share it